जानियें डेंगू होने के कारण और लक्षण, इन दस फ़ूड में होती है डेंगू से लड़ने की क्षमता: पढ़े

डेंगू एक महामारी की तरह फैलता है, यह एडीज मच्छरों के काटने से होता है। डेंगू में पहले तो सामान्य बुखार आता है, लेकिन बाद में धीरे-धीरे इसका प्रभाव शरीर पर बहुत खतरनाक दिखाई देने लगता है। अगर इलाज सही तरीके से और सही वक़्त पर नहीं किया जाता है तो मरीज की जान भी जा सकती है। डेंगू भी मलेरिया की तरह मच्छर काटने से होता है।

causes-and-symptoms-of-dengue-ten-foods-ability-to-fight-dengue

ज्यादातर डेंगू जून-जुलाई से शुरू होकर मानसून के आखिर तक अपनी चरम सीमा पर रहता है। इसका मुख्य कारण यह है कि, इन दिनों में ही पानी जमा होता है जिससे मच्छर अपने लार्वा इन ज़मा पानी में छोड़ देते है और इनसे ही बीमारियों की शुरुआत होती है। और एडीज मच्छर काटने से डेंगू की बीमारी फैलती है।

और डेंगू से वह सबसे ज्यादा प्रभावित होते है जो सबसे ज्यादा संवेदनशील और उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है। डेंगू के एडीज मच्छर ज्यादातर दिन में ही काटते है, इसलिए दिन में खुद को मच्छरों से बचाना चाहिए।

डेंगू के लक्षण और उससे बचने के उपाय…

शुरू-शुरू में डेंगू के लक्षण इस तरह होते है कि, पहले बुखार आता है फिर बुखार का टेम्परेचर बढ़ता रहता है। और बुखार में ठंड लगती है, सिर में दर्द, उल्टी होती है, भूख नहीं लगती है, ब्लडप्रेशर कम होता है, चक्कर आते है, शरीर पर खुजली भी आती है, और मांसपेशियों में दर्द होता है। ये शुरू के लक्षण होते है जो मरीज में नजर आने लगते है। लेकिन बाद में जब डेंगू की स्थिति गंभीर हालत में पहुँच जाती है तो शरीर में और समस्याएँ नजर आती है। जैसे की पेट में बहुत तेज दर्द होने लगता है, पेशीशूल, लीवर में तरल पदार्थ जमा होने लगता है और सीने में भी तरल पदार्थ जमा होने लगता है। और खून में प्लेटलेट्स कम हो जाते है।

डेंगू और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों से बचने के लिए हमारे शरीर का इम्यूनिटी सिस्टम इम्प्रूव होता है। इन बीमारियों का एक मुख्य कारण यहाँ है कि, प्लेटलेट्स बहुत तेजी से कम होने लगते है।

आगे पेज में जानिए डेंगू से बचने के लिए कौन-कौनसे फूड खाने चाहिए…