मिलिए भारत की पहली महिला कमांडो ट्रेनर से, जिन्होंने अब तक बीस हजार से ज्यादा कमांडो को ट्रेनिंग दे दी

भारतीय सेना और कमांडो ट्रेनर शिफुजी को तो आप अच्छी तरह से जानते हो, लेकिन क्या आप भारतीय सेना और कमांडो महिला ट्रेनर सीमा राव के बारें में जानते हो? नहीं ना! आज हम आपको बता रहे है इनके बारें में, क्योंकि बहुत कम लोग है जो इनके बारें में सही जानते है। सीमा राव देश की पहली महिला कमांडो ट्रेनर है, इसके अलावा वह कॉम्बैट शूटिंग इंस्ट्रक्टर, फायर-फाइटर, स्कूबा डाइवर भी है। सीमा राव को रॉक क्लाइम्बिंग में मशहूर एचएमआई मेडल भी हासिल किया है। इसके अलावा सीमा राव मिस इंडिया की फाइनलिस्ट भी रह चुकी हैं।

meet-first-indian-lady-commando-trainer-01

इनका नाम डॉक्टर सीमा राव है और तकरीबन पिछले बीस सालों से अपने देश के लिए सीमा राव बिना किसी स्वार्थ के सेवाएं देती आ रही है। सीमा राव के बारें में ज्यादा लोग नहीं जानते है इसलिए उनके बारें में जानना जरुरी है और जानकर इसे आगे शेयर करना भी हमारी जिम्मेदारी बनती है।

देश की वीर वीरांगना सीमा राव भारतीय सेना के स्पेशल फोर्सेस के कमांडो को पिछले बीस सालों से ट्रेनिंग देती आ रही है। सीमा राव के लिए सबसे गर्व वाली बात यह है कि, इन कमांडो को ट्रेनिंग देने के लिए वह अलग से कोई पैसे नहीं लेती है, क्योंकि उनका मकसद देश की निस्वार्थ सेवा करना है।

meet-first-indian-lady-commando-trainer-02

अपने बचपन के दिनों से ही सीमा राव को देश के लिए कुछ करने का जज़्बा था और सीमा सेना में जाना चाहती थी। सीमा राव की उम्र जब 16 साल की हुई तो उनकी मुलाकात अपने होने वाले पति से हुई और उन्होंने उस समय ही दोनों ने तय कर लिया था कि, वह आगे की जिंदगी साथ-साथ बिताएंगे। हालाँकि, सीमा के घरवाले इसके खिलाफ हो गए थे, तब दोनों ने अपना अलग-अलग रास्ता चुन लिया।

कमांडो ट्रेनर सीमा राव के पति मेजर दीपक राव अपने बचपन के दिनों से ही वह मार्शल आर्ट्स सीखने लग गए थे। इसके साथ ही उन्होंने सीमा का रुझान इस तरफ देखा तो उन्होंने उनकी ट्रेनिंग भी शुरू करवा दी। सीमा के पति दीपक राव को वर्ष 2011 में राष्ट्रपति की ओर से उन्हें भारतीय सेना में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए रैंक ऑफ़ इंडिया के अवार्ड से सम्मानित किया गया। आपको बता दे कि, ये अवार्ड अभी तक सिर्फ दो खिलाडियों को ही मिला है जिनके नाम महेंद्रसिंह धोनी और अभिनव बिंद्रा हैं।

meet-first-indian-lady-commando-trainer-03

जब सीमा राव की शादी मेजर दीपक राव के साथ हो गई तो ये दोनों लव बर्ड शाम से लेकर सुबह तक जब भी समय मिलता मार्शल आर्ट्स की प्रैक्टिस शुरू कर देते थे। सीमा राव का सपना था कि, वह भी एक कमांडो ट्रेनर बने और देश की सेवा के लिए अपना योगदान दे। जब सीमा राव मार्शल आर्ट्स का अभ्यास कर रही थी तब इनकी मुलाकात कुछ फौजी भाइयों से हुई और ये फौजी जवान भी वह पर अभ्यास करने के लिए आये हुये थे।

कुछ अफसरों से बात करने के बाद सीमा राव को सेना के जवानों को ट्रेनिंग देने की आज्ञा मिल गई थी। इस बात को अब 20 साल बीत चुके हैं। इन दोनों ने अपनी शादी से लेकर अब तक अपनी जिंदगी कमांडो को ट्रेनिंग देने में बिता दी।

meet-first-indian-lady-commando-trainer-04

सीमा राव और उनके पति मेजर दीपक राव एनएसजी ब्लैक कैट कमांडो, इंडियन एयर फ़ोर्स गार्ड्स, इंडियन नेवी मार्कोस और बॉर्डर सिक्यूरिटी फ़ोर्स को भी स्पेशल मिशन अंजाम देने के लिए ट्रेनिंग दे चुके हैं। आपको बता दे कि, सीमा राव एक नॉन-आर्मी ट्रेनर है जो अभी तक इन स्पेशल फोर्सेस को ट्रेनिंग देती आ रही है।

सीमा राव की जिन्दगी में मुश्किलों से भी बहुत सामना करना पड़ा है, क्योंकि उनके ससुराल वालों को सीमा राव का इस तरह से जवानों को ट्रेनिंग देना सही नहीं लगता था, इसलिए सीमा राव और उनके ससुराल में दूरियां भी बहुत बढ़ चुकी थी इसलिए उन्हें अपने ससुराल का त्याग करना पड़ा। क्योंकि सीमा राव अपनी देश की सेवा करने के लिए अपना मिशन जारी रखना चाहती थी। सीमा राव को उस वक़्त भी बहुत दुःख हुआ था जब सीमा राव के पिता का निधन हो गया था और वह अपने पापा के अंतिम संस्कार के लिए भी नहीं जा पाई थी क्योंकि जहाँ पर वह ट्रेनिंग कर रही थी वह क्षेत्र बहुत दूर था।

meet-first-indian-lady-commando-trainer-05

सीमा राव और उनके पति दीपक के बीच जब बच्चे की बात आई तो उन्होंने एक बच्चे को गोद लेना का इरादा किया, क्योंकि सीमा राव की इतनी कठिन ट्रेनिंग के चलते और समय की कमी के कारण वह बच्चा पैदा नहीं करना चाहती थी। पिछले बीस सालों से सीमा राव एक सफल कमांडो महिला ट्रेनर रही है।

meet-first-indian-lady-commando-trainer-06

हालाँकि, कई लोग ऐसे भी मिल जाते है जो एक महिला के साथ ट्रेनिंग लेना पसंद नहीं करते हैं। लेकिन जो भी सेना का जवान सीमा राव से ट्रेनिंग लेता है वह उनका बहुत सम्मान करता है और उन्हें इज्जत की नजारों से देखता है। एक रिकॉर्ड के अनुसार, सीमा राव ने अब तक करीब बीस हजार कमांडो और जवानों को ट्रेनिंग दे चुकी है।

हमारी साइबर भारत की टीम सीमा राव जैसी देश भक्त बेटी को सलाम करती हैं। इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद शेयर जरूर करें।